जिमीकंद सब्जी खाने के गुण, फायदे और नुकसान। Yam Vegetable In Hindi.

Please Share This

जिमीकंद खाने के गुण, फायदे और नुकसान In Hindi

पोस्ट की सम्पूर्ण जानकारी।

सेहत के लिए जिमीकंद सब्जी खाने के औषधीय लाभ हिंदी में. 

YAM Vegetable Health Benefits And Side Effects In Hindi . Jimikand Sabji Khane ke Fayde. Jimikand Vegetable In Hindi | जिमीकंद सब्जी खाने के गुण | 

जिमीकंद का रंग मिट्टी जैसा होता है जिमीकंद को आयुर्वेद में भी इस्तेमाल किया जाता है जिमीकंद खाने से शरीर की कई बीमारी दूर होती है।  त्वचा संबंधी समस्या वाले लोग व गर्भवती महिलाओं को इसका सेवन नहीं करना चाहिये। जिमीकंद के बारे में बहुत कम लोगों को पता है. जिमीकंद को इंग्लिश में याम (Yam) कहते हैं।

हाथी पांव या जिमीकंद।

जिमीकंद को सूरन (Suran), ओल, हाथी का पांव भी कहते हैं। सूरन को जमीन में उगाया जाता है। जिमीकंद खाने से याददाश्त व हमारी सोचने की छमता बढती है है यह अल्जाइमर नामक रोग को भी ठीक करता है जिमीकंद के अंदर एंटी ऑक्सीडेंट गुण और विटामिन सी, ए, तथा Beta-carotene पाया जाता है।

जो हमारे दिमाग के लिए फायदेमंद है। जिमीकंद को काटते या चीरते समय हाथों पर तेल या ग्लोव्स अवश्य पहने अन्यथा आपको हाथों में अलर्जी हो सकती है। आज हम आपको सुरन जमीकंद के नुकसान, फायदे व आयुर्वेद  उपचार के बारे बताएंगे।  जिमीकंद यानी सूरन का वैज्ञानिक नाम Amorphophallus Paeonifolius है।

जिमीकंद सब्जी (jimikand) में पाए जाने वाले पोषक तत्व हिंदी में

Jimikand Me Kon Kon Se Poshk tatv Paye Jate Hai.

  • *Nutrients found in YAM*
  • *फाइबर
  • *विटामिन सी
  • *विटामिन b6
  • *विटामिन b1
  • *पोटेशियम
  • *आयरन
  • *फोलिक एसिड
  • *मैग्नीशियम
  • *कैल्शियम
  • *फास्फोरस
  • *प्रोटीन
  • *कैलोरी

जिमीकंद (jimikand) यानी सूरन (Suran) के प्रकार-Type of yam IN HINDI

1. कोवक्यूर 2.गजेंद्र 3. संतरागाची

जिमीकंद सब्जी खाने के फायदे – Benefits of eating (gimmick) Yam

आज हम अपने इस लेख में जिमीकंद के घरेलू नुस्खे व जिमीकन्द की सब्जी हमे कोन कोन सी बीमारी सी बचाती है। और जिमीकंद खाने से हमे कोन कोन  से लाभ मिलते है।  ताकि हमारा शरीर सुरक्षित व निरोगी रह सके। जिमीकंद खाने के फायदे।

जिमीकंद खाने के गुण, फायदे और नुकसान

1. पेट से संबंधित समस्या में जिमीकंद – YAM in stomach related problem

जिमीकंद पेट में ऐंठन, पेट दर्द होना, पेट में गैस बनना और दस्त की समस्या को ठीक करता है इसलिए जिमीकंद से बनने वाली सब्जी का रोज सेवन करें इससे पेट से संबंधित समस्या दूर होगी। साथ ही यह हमारे पाचन शक्ति को भी मजबूती प्रदान करता है।

2. कैंसर में लाभकारी जिमीकंद – Beneficial YAM in cancer

जिमीकंद यानी सूरन कैंसर के खतरे को भी कम करता है जिमीकंद खाने से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है जिमीकंद में पाए जाने वाले ( Allantion) कैंसर जैसी बीमारी में फायदेमंद है जिमीकंद में अधिक मात्रा में फाइबर पाया जाता है जिससे कैंसर का खतरा काफी हद तक कम होता है।

3. वजन कंट्रोल करने में जिमीकंद – In weight control yam

जिमीकंद में पाए जाने वाला फाइबर वजन कम करने में फायदेमंद है। फाइबर हमारे शरीर का पाचन तंत्र ठीक रखता है जिमीकंद खाने से भूख कम लगती है जिससे हम आसानी से अपना वजन कम कर सकते हैं।

4. गठिया रोग की सूजन में जिमीकंद – In Arthritis Inflammation YAM

जिमीकंद गठिया जैसे रोग में काफी लाभकारी है यह सूजन को कम करके गठिया के दर्द में आराम देता है इसलिए गठिया से पीड़ित लोगों को जिमीकंद का सेवन करना चाहिए।

5. दिमाग को तेज करने में जिमीकंद – Brain yam in accelerating in Hindi.

जिमीकंद हमारे दिमाग को तेज करता है जो लोग अपने दिमाग को तेज करना चाहते हैं वे जिमीकंद का सेवन जरूर करें इससे उनकी याददाश्त भी तेज होगी और जिमीकंद खाने से हम अल्जाइमर जैसे रोग से बच सकते हैं।

6. बवासीर में लाभकारी जिमीकंद – Beneficial in piles yam

जिमीकंद से बनने वाली सब्जी का उपयोग अगर बवासीर में किया जाए तो बवासीर से आराम मिलेगा सूरन पेट की समस्या को भी दूर करता है सूरन के टुकड़ों को उबालकर सुखा लें फिर इन टुकड़ों का चूर्ण बनाईये चूर्ण बनाने की विधि चूर्ण 320 ग्राम चित्रक 160 ग्राम सोंठ 40 ग्राम कालीमिर्च 20 ग्राम एवं गुड़ ले सारे मिश्रण को मिक्स कर लें इसके बाद इनकी छोटी-छोटी गोलियां बनाइए इन गोलियों का रोज सेवन करें जिससे बावासीर में काफी हद तक आराम मिलेगा।

7. पाचन तंत्र को ठीक रखें जिमीकंद सब्जी खाने के गुण  – Keep right on the digestive tract yam

जिमिकंद में पोटेशियम, कैल्शियम, आयरन, मैग्नीशियम भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं इससे पाचन तंत्र सुचारू रूप से काम करता है जिमीकंद का रोज सेवन करने से कब्ज की समस्या से छुटकारा मिलता है जिमीकंद गंदे और खराब केलोस्ट्रोल को शरीर से बाहर निकाल देता है।

8. जिमीकंद में एंटी इन्फ्लेमेटरी के गुण – Anti merits of inflammatory in yam

जिमीकंद में विटामिन b6 पाया जाता है इसके अलावा ज जिमीकंद में एंटी ऑक्सीडेंट और एंटी इन्फ्लेमेटि के गुण भी पाए जाते हैं जिमीकंद यानी सूरन शरीर की अन्य बीमारियों में भी काफी फायदेमंद है।

जिमीकंद सब्जी के उपयोग हिंदी में – Use of gyms – JIMIKAND KHANE KE FAYDE HINDI ME

खाने में जिमीकंद का उपयोग कैसे कर सकते है। हम जिमीकंद को अलग अलग प्रकार से खाने योग्य बना सकते है। और जिमीकंद सब्जी का उपयोग कर सकते है।

  1. जिमीकंद को उबालकर इससे चटपटी चटनी भी बनाई जा सकती है।
  2.  हम इसके पराठे, पकोड़े आदि भी बना कर खा सकते है।
  3. जिमीकंद की सब्जी भी बनाई जाती है।
  4. जिमीकंद को उबालकर इसे कद्दूकस कीजिए। कद्दूकस किए हुए जिमीकंद का उपयोग कोफ्ते बनाने के लिए कीजिए जिससे जिमीकंद से बनने वाले कोफ्ते खाने में बहुत ही स्वादिष्ट बनते हैं।
  5. जिमीकंद का उपयोग आचार बनाने के लिए भी कर सकते हैं अगर आप जिमीकंद का आचार जल्दी खाना चाहते हैं तो इसके आचार को धूप में कुछ दिनों तक रखिए इससे आचार जल्दी तैयार हो जाएगा।

जिमीकंद सब्जी खाने के नुकसान *Side Effects Of YAM In Hindi* JAMIKAND khane ke Nukshan

किसी भी सब्जी,फल का हमे ज्यादा मात्रा में इस्तमाल नहीं करना चाहिए। क्योकि किसी भी वस्तु की अति हानिकारक होती है।

  1. जिमीकंद को एलर्जी और अस्थमा से पीड़ित व्यक्ति इसका सेवन ना करें।
  2. स्तनपान कराने वाली महिलाओं को जिमीकंद का सेवन नहीं करना चाहिए क्योंकि उनके लिए नुकसानदायक हो सकता है।
  3. जिमीकंद का जरूरत से ज्यादा सेवन करने से पेट दर्द और गैस की समस्या हो सकती है।
  4. जो महिलाएं गर्भवती हैं उनको जिमीकंद का सेवन नहीं करना चाहिए।
  5. जिन लोगों को अल्सर और छाले हैं वह जिमीकंद यानी सूरन का सेवन ना करें।

Note :- यह वेबसाइट चिकित्साआपको किसी भी प्रकार की सलाह नही देता हैं इनघरलू नुस्खों या उपचारों में से किसी का उपयोग करने से पहले अपने नजदीकी डॉक्टर या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से जरुर सम्पर्क करे।

निष्कर्ष:-

दोस्तों आज की हमारी पोस्ट (Jimikand Vegetable Khane Ke Gun, Jimikand Vegetable Ke Fayde In Hindi) आपको अच्छी लगी तो हमे Comment करके जरूर बताए। और ऐसी ही नई इंट्रेस्टिंग जानकारी के लिए हमारी Website को को फॉलो जरुर करे।

Read More :- 

Please Share This
Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *