इमली खाने के फायदे नुकसान व औषधीय लाभ। Imli Ke Fayde. Tamarind Benefits

Please Share This

इमली खाने के फायदे नुकसान व औषधीय लाभ। Imli Ke Fayde. Tamarind Benefits.  

पोस्ट की सम्पूर्ण जानकारी।

Tamarind Fruit Khane Ke Aushadhiya Labh or Fayde. इमली खाने के फायदे ।

इमली फल के फायदे | Tamarind Health Benefits Side Effects In Hindi | इमली फ्रूट के फायदे | Tamarind fruit Khane ke fayde Hindi me | Benefits of Imli in Hindi | सेहत के लिए इमली फल खाने के फायदे गुण व नुकसान। |

हेलो फ्रेंड्स आज हम आपको इमली के बारे में बताएंगे इमली खाने में बहुत ही खट्टी होती है।  इमली खाने से मुंह में लार का स्त्राव ज्यादा हो जाता है।  इमली हमारे शरीर के लिए काफी फायदेमंद है।  इमली खाने से शरीर में अन्य बीमारियां भी कम होती है। और इमली हमें  बहुत ही फायदा पहुंचाती है।  इमली में विटामिन सी भरपूर मात्रा में पाया जाता है।  इसके अलावा एंटीऑक्सीडेंट्स, मैग्नीशियम, पोटेशियम, कैरोटीन भी इमली में पाए जाते हैं।  गर्मियों में इमली की बाजार में भरमार होती है। तो चलिए शुरू करते है। इमली फल खाने के फायदे एवं नुकसान –  Tamarind Health Benefits and Side-Effects in Hindi.

इमली का पेड़ कैसा होता है-  Tamarind Fruit Tree In Hindi.

इमली खाने में टेस्टी तो होती ही है इसके साथ ही इसके पेड़ के बहुत सारे फायदे हैं। इसका प्रयोग एक औषधि के रूप में भी किया जाता है। इमली का पौधा या वृक्ष (अंग्रेजी:Tamarind) पादप कुल फैबेसी का एक वृक्ष है। इमली का पेड़ पुरे भारतवर्ष के लगभग सभी गावों और शहरों में पाया जाता है। इमली का वृक्ष लगभग 40 से 60 फ़ीट लम्बे होते है। इसकी शाखाएँ काफी घनी होने के कारण यह वृक्ष काफी छायादार होता है।

इसके पत्ते हरे, छोटे व एक दूसरे से सटे होते है। जिनका स्वाद खट्टा होता है। लगभग फरवरी और मार्च के महीने में इमली के फल पक कर त्यार हो जाते है। आपको बता दे की पेड़ पर लगी पुरानी इमली नई इमली से काफी अधिक गुणकारी मानी जाती है। इमली के पेड़ का तना हल्का भूरे रंग का होता है। इमली के वृक्ष की लकड़ी बहुत अधिक मजबूत होती है। लगभग 7 से 8 साल बाद इमली का पेड़ फल देने लग जाता है।

इमली का फल दिखने में कैसा होता है। Imli Fruit Benefits in Hindi.

इस इमली के पेड़ पर छोटे छोटे नारंगी या लाल पीले रंग के फूल होते हैं। इमली के फल टेड़े मेढे व घुमावदार होते है। जो की इसकी शाखाओं पर फलियों के रूप में दिखाई देते है। इमली के फल का रंग शुरूआती दौर में या कच्चा होने पर हरा होता है और पकने के बाद इसका ऊपरी भाग भूरे रंग में बदल जाते हैं। जिसे हम छिलका बोलते है। जिसके अंदर हमे इमली का गुदा दिखाई देता है।

जो की गहरे लाल अथवा महरून रंग का होता। इसी गूदे के अंदर इमली के बीज होते है। जो की इमली की फली पर निर्भर करते है। जितनी ज्यादा लम्बी इमली की फली उतने ज्यादा बीज। इनके बीज भी काले रंग के होते है। इमली स्वाद में खट्टी होने के कारण मुँह की सफाई करने में काफी साहयक है।

इमली फल में पाए जाने वाले पोषक तत्व – Nutrients Found In Tamarind Fruits In Hindi.

Imli Fal Ke Fayde – इमली में विटामिन और बहुत सारे पोषक तत्व पाए जाते हैं। जो हमारे शरीर को काफी फायदा पहुंचाते हैं। जो इस प्रकार है।  थायमिन , रिबोफ्लेविन , नियासिन ,  पायरीडॉक्सीन तथा फोलिक एसिड आदि मिलते है। इसके आलावा ईमली में  विटामिन A , विटामिन C , आयरन , फास्फोरस , कैल्शियम , मैगनीज , जिंक और एंटी ऑक्सीडेंट तथा एंटी इंफ्लेमटरी तत्व होते है। कच्चे इमली के 1 छोटे कप में  3.3 मिलीग्राम लोहा, या यु कहें  की  इमली दैनिक मूल्य का 18 प्रतिशत प्रदान करती है।

100 ग्राम इमली की मात्रा में निम्नलिखत पोषक तत्वों की मात्र पाई जाती हैं

  1. विटामिन सी (Vitamin C) – 6 प्रतिशत
  2. विटामिन ए (Vitamin A ) – 1 प्रतिशत
  3. पोटेशियम (Potassium) – 13 प्रतिशत
  4. नियासिन (Niacin) – 12 प्रतिशत
  5. फास्फोरस (Phosphorus) – 16 प्रतिशत
  6. मैग्नीशियम (Magnesium) – 23 प्रतिशत

इमली  को इंग्लिश में क्या कहते है?

इमली को अंग्रेजी  में Tamarind (टैमरिंड) कहते हैं।

इमली Tamarind (टैमरिंड) Fruit का scientific नाम क्या है ?

इमली फैबासी (Fabaceae) पौधे के परिवार से ताल्लुक रखता हैं। Imli का वैज्ञानिक नाम ‘टैमैरिन्डस इन्डिका’ (Tamarindus indica) हैं।

Imli की खेती कहा की जाती है? –  Tamarind Fruit cultivation. 

जहां इमली की सबसे ज्यादा पैदावार की जाती है उन उत्पादन क्षेत्रों के नाम:- बर्मा, श्रीलंका, भारत एवं दक्षिण पूर्व एशिया आदि उत्पादन क्षेत्र है। जहां सबसे ज्यादा Imli की पैदावार की जाती है। भारत के अंदर इमली के पेड़ आपको हर राज्य में देखने को मिल जाएंगे।

कुछ अन्य भाषाओं में इमली के नाम। 

  • Hindi में –इमली, अमली, अम्बली।
  • Gujarati में –आंबली।
  • Telugu में चिंता, अम्लिका।
  • Tamil में – आम्लकम, पुलि।
  • Bengali में – तेंतुल, नुली।
  • Marathi में – चिञ्च, अम्बाली।
  • English में –  इण्डियन डेट, टैमैरिंड ट्री।
  • Sanskrit में – अम्लिका, अम्ली, अम्ला, चुक्रा।

खट्टी- मीठी इमली खाने के फायदे – IMLI HEALTH Benefits And Side Effects In Hindi.

खट्टी- मीठी इमली खाने के फायदे - IMLI HEALTH Benefits And Side Effects In Hindi.

इमली फल के फायदे हमे बहुत सारे मिलते हैं आज हम इन्हीं फायदों के बारे में आपको बताएंगे। इमली में बहुत से पोषक तत्व पाए जाते है. जो हमारे शरीर में रोगो से लगने की छमता बढ़ाते है। व कैंसर सेल्स के प्रभाव को भी कम करता है. इमली के पत्ते, छाल, जड़ और फल बहुत ही गुणकारी होते हैं इमली का उपयोग आयुर्वेद की दवाइयों में इस्तेमाल किया जाता है। इमली के पेड़ पर आने फूल का उपयोग सूजन को कम करने के लिए किया जाता है। चलिए तो शुरू करते है। इमली खाने के फायदे, घरेलू नुस्खे व उपयोग के बारे में जानकारी।

1. गर्भावस्था में इमली खाने के फायदे। – Benefits Of Eating Tamarind In Pregnancy

गर्भावस्था के दौरान अक्सर सभी महिलाओं को खट्टा- मीठा खाने का मन होता है।  तो प्रेग्नेंट महिला इमली का सेवन कर सकती है।  इमली का सीमित मात्रा में ही सेवन करें वरना यह नुकसान का कारण बन सकती है।  इमली से प्रेग्नेंट महिला को विटामिन सी और विटामिन ई भरपूर मात्रा में मिलता है। साथ ही इमली शरीर में बैड कोलेस्ट्रॉल को भी कम करती है। प्रेग्‍नेंसी में मीठी इमली खाने से कब्ज की समस्या से भी निजात मिलती है।

2. गर्मियों में लू लगने की समस्या में इमली के फायदे। – The Benefits Of Tamarind In The Heatstroke Problem In Summer.

गर्मियों में अक्सर देखा जाता है कि कई लोग लू की चपेट में आ जाते हैं।  इससे बीमार होने की संभावना बढ़ जाती है।  अगर आप लू से बचना चाहते हैं।  तो इमली को रात भर भिगोकर रखें और सुबह उस पानी को पी लीजिए इससे आप लू लगने से बचे रहेंगे। क्योकि इमली में पाए जाने वाले एंटीऑक्सीडेंट हमारे इम्यून सिस्टम को मजबूती प्रदान करता हैं। चाहे तो आप  गर्मियों में इमली का शर्बत भी बनाकर पी सकते है।

3. कैंसर के प्रभाव को कम करे इमली खाने के फायदे – Benefits Of Eating Tamarind To Reduce The Effects Of Cancer.

गर्मियों में अगर इमली का सेवन किया जाए तो हम कैंसर के खतरे से बच सकते हैं। क्योकि इमली में पाया जाने वाला  एंटीऑक्सीडेंट और टैरट्रिक एसिड हमारे शरीर में कैंसर सेल्स के असर को कम करता है। परन्तु इसका सेवन हमे सिमित मात्रा में ही करना चाहिए।  साथ ही इमली शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है।  जिससे  कई बीमारियों के खतरे से बचाने में हमारी मदद करती है।

4. पाचन तंत्र में सहायक इमली खाने के फायदे। – Benefits Of Eating Tamarind That Help Digestive System.

इमली हमारी पाचन क्रिया में बहुत मदद करती है।  इमली में एंटीऑक्सीडेंट गुण पाए जाते हैं।  जो हमारे पाचन क्रिया को बेहतर बनाती है।  इमली हमें कई संक्रमण के खतरे से बचाव करती हैं। इमली में फाइबर, कैल्शियम, फास्फोरस, आयरन, पोटैशियम, मैंगनीज की मात्रा भी अच्छी पाई जाती है। साथ ही इमली शरीर में अपच, ऐंठन और पेट की सूजन में साहयक है। 

5. बढ़ते हुए पेट को कम करें इमली। – Increase Stomach By Reducing Tamarind.

इमली के लगातार सेवन करने से हमें मोटापे से निजात मिलती है।  और इमली वजन घटाने में हमारी काफी मदद करती है।  इमली में हाइड्रो ऑक्साइड ट्रिक एसिड पाया जाता है। जो हमारा वजन कंट्रोल में रखता है। साथ ही इमली में पाया जाने वाला फाइबर लम्बे समय तक पेट भरा होने का अहसास दिलाता है। और हमे लगातार व्यायाम करना चाहिए।

6. शुगर में लाभकारी  इमली खाने के फायदे। – Benefits Of Eating Beneficial Tamarind In Sugar.

जिन लोगों को शुगर से संबंधित समस्याएं है।  वे इमली का सेवन करें।  इससे उनकी शुगर से संबंधित समस्या दूर होगी इमली शुगर को कंट्रोल में करता है। यह हमारे शरीर में मौजूद कार्बोहाइड्रेट्स को एबजॉर्ब होने से रोकती है। इसलिए हमे रोजाना एक छोटा गिलास इमली का जूस पीना चाहिए।

7. भूख में बढ़ाने में इमली की फायदे। – Benefits Of Tamarind In Increasing Appetite.

जो लोगों को भूख न लगने की समस्या से पीड़ित है।  तो वे इमली का सेवन जरूर करें इससे उनको भूख न लगने की समस्या दूर होगी। आप को बतादे की इमली के पानी मे यदि हम थोड़ा-सा काला नमक डालकर भूख न लगने वाले व्यक्ति को पिलाए तो। इस पानी को पीने से व्यक्ति को भूख लगनी शुरू हो जाती है।

8. ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करे इमली। – Tamarind Should Control Blood Pressure.

इमली खाने से हमारे शरीर का ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है।  क्योंकि इमली में आयरन, मैलिक, टार्टरिक और पोटेशियम की मात्रा पाई जाती है।  जो हमारे ब्लड को नियमित रूप से काम करने में हमारी मदद करती हैं। साथ ही इमली शरीर में लाल रक्त कोशिकाओं के विकास में भी साहयक है।

9. डायबिटीज के मरीजों के लिए इमली का सेवन – Consumption Of Tamarind For Diabetes Patients.

जो लोग डायबिटीज से पीड़ित हैं।  वे इमली का सेवन जरूर करें इमली में निकलने वाला बीज डायबिटीज के लोगों के लिए बहुत ही फायदेमंद है।  इमली के बीज का पाउडर खाने से डायबिटीज में राहत मिलती है। आपको बता दे की डायबिटीज दो तरह का होता है, टाइप-1 और टाइप-2। 2- टाइप के मरीजों के लिए फायदेमंद है। इमली के बीज का सेवन।

10. तंत्रिका तंत्र में इमली के लाभकारी उपयोग- Beneficial Use Of Tamarind In Nervous System.

इमली में कैल्शियम की मात्रा भरपूर पाई जाती है।  इमली में पाया जाने वाला कैल्शियम तंत्रिका तंत्र को सही ढंग से काम करने में मदद करता है।  तंत्रिका तंत्र में कोई अगर असुधार आ जाए।  तो वह इमली खाने से ठीक हो सकता है।

11. सूर्य से निकलने वाली हानिकारक पराबैंगनी किरणों से बचाता इमली का सेवन। 

इमली में विटामिन सी और भरपूर मात्रा में पाया जाता है।  ज्यादा देर बाहर रहने से हमारे स्क्रीन पर साइड इफेक्ट पड़ता है। और सूर्य की किरणें हमारे शरीर को नुकसान पहुंचाती है। अगर हम इमली का सेवन करते हैं।  तो सूरज से निकलने वाली हानिकारक किरणों से बचाव किया जा सकता है।

12. बालों को जड़ से मजबूती प्रदान करे इमली। – Tamarind Should Strengthen The Hair From The Root.

कई बार देखा गया है कि कई लोगों को बालों से संबंधित समस्या ज्यादा रहती है। अगर इमली का सेवन नियमित रूप से करें तो बालों की समस्या से छुटकारा पाया जा सकता है। बालों का झड़ना, बालों की जड़ें मजबूत न होना, रूसी की समस्या आधी समस्या से बचा जा सकता है। इसलिए इमली का सेवन करें इससे हम बालों की समस्या से छुटकारा पा सकते हैं।

13. हृदय को स्वस्थ रखने में इमली का प्रयोग – Use Of Tamarind To Keep The Heart Healthy.

इमली में पाए जाने वाला गुण हृदय को स्वस्थ रखने मे काफी सहायक है। जितना इमली खाना लाभकारी है। उतना ही इमली के बीज भी हैं। इमली के बीज एंटीऑक्सीडेंट गुणों से भरपूर होते हैं जो हृदय में होने वाले रोगों से निजात मिलती है। इमली में मौजूद फाइबर और पौटेशियम क्रमश: कोलेस्ट्रॉल और रक्तचाप कम करने में काफी हद तक कारगर साबित होते है।

इमली की चटनी बनाने की विधि :-

सबसे पहले इमली को पूरी रात भिगोकर रखें। जब सुबह इमली भीग जाए तो इमली को एक कपड़े में निचोड़ लीजिए निचोड़े हुए पानी को अलग रखें। सबसे पहले तेल गर्म करें फिर उसमें कम मात्रा में जीरा भुनने फिर उसके बाद।  इमली का पानी डाले और पानी की मात्रा भी ऐड कर सकते हैं। फिर शॉप डालें नमक और और मिर्च की थोड़ी सी मात्रा स्वाद अनुसार डालें, खट्टी ज्यादा होने पर आप  चाहे तो इसमें थोड़ी मात्र में चीनी का भी प्रयोग कर सकते हैं।  इसके बाद  थोड़ी देर पक जाने के बाद गैस को बंद कर दें। और हमारी चटनी बनकर तैयार है।

इमली के अन्य उपयोग  – use Imli In Hindi.

  •  इमली का उपयोग सब्जी बनाने में किया जाता है।
  • इमली के फल और पत्तों से चटनी भी बनाई जाती है।
  • इमली के पत्तों का उपयोग दर्द और सूजन को कम करने के लिए उपयोग में लाया जाता है।
  • पकी हुई इमली का उपयोग मुरब्बा बनाने में भी किया जाता है।
  • इमली का उपोग आयुर्वेद की दवाइयों में किया जाता है।
  • इमली को पानी में भिगोकर इमली पानी बनाया जाता है।
  • इमली से जूस (शर्बत ) भी बनाया जाता है।

इमली खाने के नुकसान – Imli HEALTH Benefits And Side Effects In Hindi.

  • गर्भावस्था के दौरान इमली का ज्यादा सेवन करने से प्रेग्नेंट महिला को काफी नुकसान हो सकता है।
  • एलर्जी में इमली का सेवन बिल्कुल भी ना करें। इससे शरीर में सूजन, जलन, उल्टी आना, चक्कर आना जैसी समस्या हो सकती है।
  • मार्किट में ऐसी बहुत सी दवाएं है जिनके सेवन के साथ हमे इमली का सेवन नहीं करना चाहिए। इसलिए गंभीर मुद्दों में इमली का सेवन डॉक्टर के रेख- देख में किया जाना चाहिए।
  • किसी भी फल की अधिकता बीमारी का कारण बन सकती हैं। इसलिए हमे सभी फलों को लिमिट में खाए।
  • Note :- हमारी यह वेबसाइट आपको किसी भी प्रकार की चिकित्सा सलाह नही देता हैं. बताए गए घरेलू  उपचारों में से किसी का उपयोग करने से पहले अपने नजदीकी डॉक्टर या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से सम्पर्क जरुर करे।
Subject :- 
 Imli Khane Ke Labh | Imli Fruit Khane Ke Gun | इमली खाने के फायदे | इमली खाने के फायदे और नुकसान |  इमली खाने के नुकसान | इमली फल के उपयोग | इमली खाने के फायदे | इमली फल के फायदे और लाभ | Tamarind Fruit Khane Ke Fayde | Tamarind use In Hindi |  

निष्कर्ष:-

दोस्तों आज की हमारी पोस्ट Imli Khane Ke Gun, Imli Fruit Ke Fayde In Hindi  आपको अच्छी लगी तो हमे Comment करके जरूर बताए। और ऐसी ही नई व इंट्रेस्टिंग जानकारी लेने के लिए हमारी  Website  फॉलो करे।

Read More :-

Please Share This
Previous Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *