Computer Ki पांचों Generation की जानकारी हिंदी में। Computer Ki Pidiya.

Please Share This

Generation of Computer in Hindi - कंप्यूटर की पीढ़िया।

Computer की विभिन्न पीढ़िया हिंदी में –  Generation of Computer in Hindi. 

Generation of Computer in Hindi | जनरेशन ऑफ कंप्यूटर हिंदी में |  Computer ki pidiya in hindi |

नमस्कार दोस्तों कैसे है आप सब आज हम फिर हाजिर है एक नई जानकारी के साथ। जैसा की आप सभी को कंप्यूटर के बारे में जानकारी होगी।

आज पुरे विश्व में कंप्यूटर ने एक अलग ही मुकाम हासिल किया है कंप्यूटर के बिना कोई भी कार्य करना असम्भव है.परन्तु क्या आप जानते है।

कंप्यूटर की पांचों पीढ़ियों का इतिहास। 

कंप्यूटर के शरुआती दौर के बारे में जैसे की कंप्यूटर का विकास और कंप्यूटर का इतिहास दोस्तों पुराने जमाने के कंप्यूटर भारी, महंगे और बहुत ही अधिक जगह घेरने वाले थे।

परन्तु बदलते समय व बदलती Technology के कारण कंप्यूटर में बहुत से बदलाव हुए है जिन्हे हम कंप्यूटर की पीढ़िया कहते है. हर पीढ़ी में कंप्यूटर के आकार व उसके काम करने की छमता में काफी बदलाव देखने में मिलता है.तब जाकर आज के युग का कंप्यूटर बन पाया है।

आज भले ही हमे रोबोट बना लिए है. परन्तु पहला कंप्यूटर अबेकस लकड़ी से बनाया गया था. इन बदलाव को हम कंप्यूटर की Generation भी कहते है। तो चलिए Start करते है कंप्यूटर की पीढ़िया व कंप्यूटर के बदलाव।

Types Of Computer Generation In Hindi – जनरेशन ऑफ कंप्यूटर के प्रकार।  

इस बात का हमारे पास कोई भी स्टिक प्रमाण नहीं ही की कंप्यूटर का विकास कब से हुआ लेकिन फिर भी कंप्यूटर के अविष्कार व विकास को लेकर आधिकारिक तौर पर कंप्यूटर को पाँच अलग – अलग भागो में विभाजित किया गया है जो कंप्यूटर के अविष्कार व विकास को दर्शाते है।

कंप्यूटर की पीढ़ी – Computer Generation in Hindi.

  1. 1940-1956 (Vacuum Tubes) – कंप्यूटर की पहली पीढ़ी
  2. 1956-1963 (Transistors) – कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी
  3. 1964-1971 (Integrated Circuits) – कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी
  4. 1971-1985 (Microprocessors) – कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी
  5. 1985-Present (Artificial Intelligence) – कंप्यूटर की पांचवीं पीढ़ी

1. 1940-1956 (Vacuum Tubes) – कंप्यूटर की पहली पीढ़ी की विशेषता। 

first Generation of Computer in Hindi

पहली पीढ़ी के कंप्यूटर की कंप्यूटिंग Capacity बहुत ही कम थी और आकर में काफी बड़े साथ इनको चलाने में बिजली की खपत बहुत ही ज्यादा थी। साथ ही किसी भी डाटा को स्टोर करने की भी सिमित व्यवस्था थी।

इसमें वैक्यूम टयूब का उपयोग होने के कारण खराब भी जल्दी हो जाते थे क्यॉकि इसमें ज्यादा गर्मी उतपन्न होती थी। साथ ही इसके Repairing की Cost भी बहुत ज्यादा होती थी इसमें मशीन Language का उपयोग किया गया था इन कम्प्यूटरों में चलने वाले Program को स्टोर करने के लिए पंचकार्ड क उपयोग किया जाता था।

UNIVAC-1, ENIAC, Mark-1 पहली पीढ़ी के कंप्यूटर थे। जिसे First Generation Computer के नाम से भी जाना जाता है। (Desktop Computer का अविष्कार)

2. 1956-1963 (Transistors) – कंप्यूटर की दूसरी पीढ़ी की विशेषता।  

Second Generation of Computer in Hindi

दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में वैक्यूम ट्यूब की जगह Transistors का प्रयोग होने लगा जो आकार में छोटे होने के साथ ही काफी हल्के भी थे Transistors लगे होने के कारण यह काफी कम हिट उतपन्न करते थे

इस में डाटा को स्टोर करने के लिए उच्च स्तरीय Programming Language COBOL और FORTRAN का उपयोग होने लग गया था तथा इसके कार्य करने की छमता भी अच्छा सुधार देखने को मिला। IBM 1401, Honey Well 200, दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर थे।

जिसे Second Generation Computer के नाम से भी जाना जाता है. (कंप्यूटर का विकास)

3. 1964-1971 (Integrated Circuits) – कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी की विशेषता।  

Third Generation of Computer in Hindi

बदलते समय व तकनीक के कारण तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में Transistors की जगह Integrated Circuit का उपयोग होने लग गया. जिसे हम Ic भी कहते है। और हमारे कंप्यूटर का आकार काफी छोटा हो गया।

सिलकोन चिप पर इंटीग्रेटेड सर्किट निर्माण होने से इन कम्प्यूटरों की गति माइक्रो सेकंड से नेनो सेकंड तक की हो गई. जिससे कंप्यूटर की डाटा को प्रोसेस करने की गति बढ़ गयी।

इसी पीढ़ी में उच्च स्तरीय भाषा BASIC (Beginners All Purpose Symbolic Instruction Code) का प्रयोग किया गया। इसी Third Generation Computer में Keyboard, Monitors, Ram और Operating System का उपयोग किया गया। IBM 360, IBM 370 कंप्यूटर की तीसरी पीढ़ी के उदाहरण है। (सबसे पहला Laptop)

4. 1971-1985 (Microprocessors) – कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी की विशेषता

Fourth Generation of Computer in Hindi

कंप्यूटर की चौथी पीढ़ी में ही Microprocessor का उपयोग किया गया था जिससे कंप्यूटर के आकर में कमी आगयी थी और कंप्यूटर की गति व कार्य करने की छमता में काफी बदलाव आया. कंप्यूटर की इस पीढ़ी में 1000 Integrated Circuit को आपस में मिलाकर एक सिलिकॉन चिप तैयार की गयी जिसे VLSI (Very Large Scale Integration). कहा जाने लगा.

इसके बाद बहुत सी VLSI को आपस में Connect करके Large Scale Integrated Circuits (LSIC) का निर्माण किया गया।  Single Silicon Chip Microprocessors कहा जाता है और इसी पीढ़ी में Desktop Computer और Personal Computer ( PC ) का विकास हुआ।

इसी समय C भाषा का जन्म हुआ, जिससे प्रोग्रामिंग करना आसान हो गया। इसे Fourth Generation Computer कहते है। IBM PC,APPLE II कंप्यूटर इनके उदाहरण है। (कंप्यूटर के पिता)

5. 1985-Present (Artificial Intelligence) – कंप्यूटर की पांचवीं पीढ़ी की विशेषता।  

Fifth Generation of Computer in Hindi

इस पीढ़ी में कंप्यूटर के विकास में ULSI (Ultra-Large Scale Integration) चिप का प्रयोग किया जाने लगा जिसमे लाखो Transistors को मिलाकर एक चिप में Manage किया गया. साथ ही अब कंप्यूटर में उच्च स्तरीय भाषा C And C++, Java का प्रयोग किया गया है।

5th Generation of Computer in Hindi.

कंप्यूटरों में कृत्रीम बुद्धि का उपयोग जिसको हम आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (Artificial Intelligence) कहते है. पर काफी प्रयास किया जा रहा है। 64 Bit Microprocessors का निर्माण भी इसी युग में हुआ है।

इस पीढ़ी में ऑप्टीकल डिस्क जिसकी साहयता से कम स्थान में अधिक डाटा स्टोर किया जाने लगा. साथ ही इन्टरनेट, ईमेल, WWW व Windows का अविष्कार हुआ। Desktop, Laptop, Notebook, Ultrabook, Chromebook आदि कंप्यूटर उदाहरण है।

जिसको हम Fifth Generation Computer भी कह सकते है. आने वाला युग यानि Artificial Intelligence Sixth Generation Computer के नाम से जाना जायेगा। (The Abacus Computer.)

Subject :- 

Computer सॉफ्टवेयर क्या होता है? और  सॉफ्टवेयर के प्रकार .Computer Hardware किया है?,  कंप्यूटर क्या है।, कंप्यूटर का इतिहास, कंप्यूटर फुल फॉर्म व कंप्यूटर के उपयोग। आदि की भी जानकारी आपको होनी चाहिए। यह जानकारी पढ़ कर मुझे नहीं लगता की आपको दूसरी वेबसाइट पर Visit करना पढ़े क्योकि हमारा यह उदेश्य है की आप को सही जानकारी मिले.

 निष्कर्ष:-

दोस्तों मुझे पूरा विशवास है की आज की हमारी पोस्ट आपको अच्छी लगी तो अपने दोस्तों को सिखाने के लिए इस पोस्ट को शेयर करना ना भूले। अगर अब भी कुछ कमी है। तो हमे Comment करके जरूर बताए। (कंप्यूटर का अविष्कार ) और ऐसी ही नई जानकारी लेने के लिए हमारी WEBSITE को सब्सक्राइब जरुर करे. (Use of computer)

धन्यवाद।

Read More:-

Please Share This
Previous Article
Next Article

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *