जिंदगी बदल देंगे खिरनी फल के फायदे व नुकसान। Best Khirni Fruit In Hindi.

Please Share This

खिरनी फल के फायदे व नुकसान

पोस्ट की सम्पूर्ण जानकारी।

Khirni Fruit Khane Ke Aushadhiya Labh or Fayde. khirni fruit In Hindi.

खिरनी फल के फायदे – Best Khirni Fruit In Hindi. खिरनी के पेड़ महुआ के पेड़ के समान दिखाई देते हैं. खिरनी एक ऐसा फल है। जो बहुत कम ही लोगों को पता है। खिरनी को आयुर्वेद में क्षिरिणी के नाम से जाना जाता है क्षिरिणी का अर्थ होता है जब इसके पत्तो और फूल को तोड़ा जाता है तो क्षीर यानि ऐसा फल जिसमे दूध निकलता है।

खिरनी में जो गुण पाए जाते हैं उन्हीं के आधार पर इसे राजाओं का फल कहते हैं प्राचीन काल में इस फल का उपयोग राजाओं के द्वारा किया जाता था .  खिरनी फल  वृक्ष का वानस्पतिक नाम मनीलकरा हेक्सेंड्रा है. 

खिरनी फल का पेड़ कैसा होता है-  Khirni Fruit Tree In Hindi.

खिरनी के पेड़ महुआ के पेड़ के समान दिखाई देते हैं. खिरनी का पेड़ काफी ऊंचाई वाला होता है। खिरनी फल  सेपोटेसी कुल का पेड़ है. खिरनी या माइमोसॉप्स हेक्जैंड्रा (Mimosops hexandra) के  फल नीम के फल निंबोली के आकार जैसा होता है यह फल हरे और पीले रंग का होता है।

यह फल कच्चा होने पर खट्टा होता है और पक जाने पर मीठा बन जाता है खिरनी में दूध भी होता है खिरनी के पेड़ की लकड़ी चिकनी और मजबूत होती है सितंबर से दिसंबर के महीनों में इस पेड़ पर फूल आते हैं और अप्रैल से लेकर जून के महीनों में खिरनी पेड़ पर फल लगते हैं बारिश होते ही इस फल में कीड़े पड़ जाते हैं और खिरनी का फल गर्म प्रवृत्ति का होता है।

खिरनी फल इन हिंदी के पाए जाने वाले क्षेत्र । Khirni fruit In Hindi.

खिरनी के पेड़ की छाल का उपयोग औषधि के रूप में भी किया जाता है खिरनी के बीज से तेल भी निकाला जाता है यह फल प्राय जंगलों में पाए जाते हैं खिरनी के विशाल पेड़ मध्यप्रदेश के मांडू क्षेत्र में बहुतायत में देखे जा सकते हैं मांडू क्षेत्र को राजाओं का स्थान कहते हैं.

यह पेड़ उतरी भारत में स्वयं उग जाते हैं या फिर उगाए जाते हैं खिरनी का पेड़ काफी लंबे समय तक रहता है यह पेड़ कई हजारों साल पुराने देखे जा सकते हैं। आज हम आपको खिरनी फल के फायदे और नुकसान के बारे में बताएंगे।

खिरनी फल की सूची – List of Khirni in Hindi

खिरनी फल के फायदे व नुकसान एंड हेल्थ बेनिफिट।

  1. खिरनी फल के पोषक तत्व।
  2. अलग-अलग भाषाओं में खिरनी फल के नाम।
  3. 3.आयुर्वेद में खिरनी फल के नाम।
  4. भारत में खिरनी फल की पैदावार ।
  5. Khirni Fruit Khane Ke फायदे।
  6. खिरनी फल के उपयोग ।
  7. खिरनी फल के नुकसान।

खिरनी फल में पाए जाने वाले पोषक तत्व -Nutrients found in Khirni fruit.

Khirni Fruit Khane Ke फायदे – खिरनी फल में अनेक विटामिन और खनिज पदार्थ पाए जाते हैं: खिरनी फल में प्रोटीन की मात्रा 0.48 प्रतिशत होती है। Vitamin a, Vitamin b, Vitamin c, Carbohydrate, Vasa, Protein, Calcium, Fasforce, Loha,

खिरनी फल के अन्य नाम – Other names for Khirni Fruit
  1. हिंदी-      खिरनी
  2. कर्नाटकी-  खिरनीमारा
  3. गुजराती-    रायण
  4. मराठी-       खिरणी
  5. संस्कृत-       क्षिरिणी

आयुर्वेद में खिरनी फल के नाम – Name of Khirni fruit in Ayurveda :-  आयुर्वेद में खिरनी फल को क्षिरिणी, राजदान, राजफल, फलाध्यक्ष आदि नामों से जाना जाता है।

भारत में खिरनी फल की खेती कहां होती है।  – Khirni fruit cultivation in India

भारत में खिरनी फल उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ बिहार, महाराष्ट्र, तमिलनाडु आदि भारत के अलावा खिरनी फल के पेड़ चीन, श्रीलंका, बांग्लादेश, म्यांमार थाईलैंड, कंबोडिया और वियतनाम में इस फल की पैदावार की जाती है।

खिरनी फल  के फायदे- Khirni  Fruit  HEALTH Benefits And Side Effects In Hindi.

खिरनी फल के फायदे व नुकसान

Khirni Fruit Khane Ke हमें बहुत सारे फायदे मिलते हैं आज हम इन्हीं फायदों के बारे में आपको बताएंगे।  खिरनी फल फल का पेड़ ऐसा पेड़ है जिसके बारे में हम बहुत ही कम जानते है. खिरनी फल के पेड़ का उपयोग जड़ से लेकर तना, छाल, पत्तियां, लकड़ी, फल और फुल सभी उपयोग में लाये जाते है. तो चलिए जानते है। खिरनी फल के फायदे, घरेलू नुस्खे व उपयोग के बारे में।

1.दांतो के दर्द में खिरनी फल के उपयोग – Use of Khirni fruit in Dental Pain.

यदि आपके दांत में दर्द है और वह दर्द ठीक नहीं हो रहा है तो आप खिरनी का दूध ले और इस दूध को रुई के द्वारा अपने वहां पर लगाई जहां आपके दांत में दर्द है इसके दूध को अच्छे से लगा ले ऐसा करने से दांतों का दर्द ठीक हो जाता है। और हमे कोई परेशानी भी नहीं होती। इसलिए सभी पेड़ों और उनके महत्व को जरूर समझना चाहिए।

2. चेहरे के लिए फायदेमंद खिरनी फल – Khirni fruit Beneficial for Face.

खिरनी फल की पत्तियों का उपयोग आप फेस पर भी कर सकते हैं इसकी पत्तियों को पीसकर और दूध में मिलाएं ध्यान रहे इस पेस्ट को रात को ही लगाएं और सुबह जब आप उठे तब अपना फेस गुनगुने पानी से धो लें कुछ दिनों तक ऐसा करने से आपके चेहरे से दाग- धब्बे, कील, मुंहासे और पिंपल्स दूर हो जाएंगे। ये है। खिरनी फल के फायदे।

3. पेशाब की समस्या में खिरनी फल के उपयोग – khirni fruit use in Frequent urination.

बार-बार पेशाब लगना अक्सर कई लोगो में यह समस्या होती है। जो काफी बार हमे समस्या में डाल देती है।  इस समस्या  से बचने के लिए हमे खिरनी फल का सेवन जरूर करना चाहिए। सुबह खाली पेट अगर खिरनी का सेवन किया जाए तो बार- बार पेशाब लगना बंद हो जाता है।

4. मोटापा बढ़ाए खिरनी फल – Obesity increases Khirni fruit.

खिरनी फल शरीर को मोटा करता है जो लोग शरीर से दुबले-पतले  हैं उन व्यक्तियों के लिए खिरनी फल बहुत ही फायदेमंद है। और इस खिरनी फल का उपयोग कर आप इस अपनी इस समस्या को दूर कर सकते है।

5. कीट के काटने पर खिरनी फल -Use of pulpy fruit on insect Bites.

अगर आप को कोई जहरीला किट काट लेता है तो आप खिरनी फल के बीज का उपयोग कर सकते है। खिरनी के फल से बीज निकाल लें और इन बीजों को पीसकर लेप तैयार कर लें इस लेप को कीट काटने वाली जगह पर लगाए लेप लगाने  से कीट का जहर निकल जाता है और दर्द में भी आराम मिलता है।

6. ज्वर या बुखार होने पर खिरनी फल – Khirni fruit in case of Fever.

खिरनी फल का सेवन अगर ज्वर या बुखार होने पर किया जाए तो उस व्यक्ति को ज्वर या बुखार से जल्दी छुटकारा मिलता है। यह फल हमारे लिए बहुत ही लाभदायक है और हमे इस वृक्ष की घटती संख्या को बचाना चाइए। उन्ही वृक्षों में से एक है खिरनी फल इसलिए हम सबकों पेड़ों को बचाना चाहिए। और उनको उपयोग में लाना चाहिए।

7. मिर्गी में खिरनी फल के उपयोग – Uses of Khirni Fruit in Epilepsy.

खिरनी पेड़ की जो टहनियां होती है उन टहनियो में गांठ होती है इन  गांठो को आग में सेकिये और रस निकाल लीजिए इसके रस में शहद और पीपर का चूर्ण मिला लें  रोज इसका सेवन करें ऐसा करने से आप इसका सेवन 1 या 2 महीने तक करें इससे मिर्गी की समस्या दूर हो जाएगी।

8. पित्त रोग में खिरनी फल के लाभ – Benefits of Khirni fruit in Bile Disease.

खिरनी फल मद, मूर्छा, मोह, दाह,  तृषा, प्यास को नष्ट करता हैं खिरनी फल पित्त नाशक होने के कारण  रक्त पित्त रोग मे लाभ पहुंचाता है। इसलिए रोज इसका सेवन करें।

खिरनी फल के उपयोग – Uses of Khirni Fruits in Hindi.

Khirni Fruit Health Benefits In Hindi.

  1. खिरनी के पेड़की छाल का उपयोग शराब बनाने में किया जाता है।
  2. खिरनी के पेड़ की छाल का काढ़ा बनाकर पीने से ज्वर में लाभ मिलता है।
  3. खिरनी के फलों का सुखाकर इसका उपयोग ड्राई फ्रूट के रूप में भी कर सकते हैं।
  4. 4 . खिरनी के पेड़ की छाल  को पानी में उबालकर नहाने से दर्द में आराम मिलता है।
  5. 5 . खिरनी फल से आइसक्रीम भी बनाई जा सकती है।
  6. 6 . खिरनी फल के बीज का बना हुआ  चूर्ण  फोड़ों व तपेदिक रोग में लाभ पहुंचाता है।
  7. 7 . कीड़े या बिच्छू के काटने पर खिरनी फल के बीज का बना हुआ  चूर्ण  पानी के साथ पेस्ट बना कर लगाने से जहर बहार  आ जाता है।

खिरनी फल के नुकसान – Khirni  Fruit  HEALTH Benefits And Side Effects In Hindi.

Loss of Khirni fruit in Hindi.

  1. बरसात के मौसम में इस फल में कीड़े पड़ जाते हैं इसलिए बारिश के दिनों में इस फल का सेवन नहीं करना चाहिए नहीं तो यह हमें नुकसान पहुंचा सकता है।
  2. यह खिरनी फल पचने में काफी समय लेता है।
  3. खिरनी फल का अधिक सेवन न करे।
  4. नोट:-  इन युक्तियों या उपचारों में से किसी का उपयोग करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य ले। यह वेबसाइट चिकित्सा सलाह नही देता हैं इन युक्तियों या उपचारों में से किसी का उपयोग करने से पहले डॉक्टर या अन्य स्वास्थ्य देखभाल प्रदाता से परामर्श जरुर करे।
Subject :- 
Khirni Fruit Khane Ke Labh | Khirni Fruit Khane Ke Gun |  खिरनी फ्रूट के फायदे |  खिरनी फल हेल्थ बेनिफिट्स फायदे |  खिरनी फल के फायदे और नुकसान |  खिरनी फल के नुकसान | खिरनी फल के उपयोग | खिरनी फल के फायदे | खिरनी फल के फायदे और लाभ | Khirni Fruit Khane Ke Fayde | Khirni Fruit In Hindi |  

निष्कर्ष:-

दोस्तों आज की हमारी पोस्ट (खिरनी फल के फायदे, Khirni Fruit Khane Ke Gun, Khirni Fruit Ke Fayde In Hindi)  आपको अच्छी लगी तो हमे Comment करके जरूर बताए। और ऐसी ही नई व इंट्रेस्टिंग जानकारी लेने के लिए हमारी  Website  फॉलो करे।

Read More :- 

Please Share This
Previous Article
Next Article

One Reply to “जिंदगी बदल देंगे खिरनी फल के फायदे व नुकसान। Best Khirni Fruit In Hindi.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *